बुधवार, 17 अक्तूबर 2007

है कोई शक ?

लो जीत गया भारत
सबको भा गया भारत
मेरा भारत प्यारा भारत
हार गए कंगारू
छिपा गए दुम
हो गए बेदम
गले मिल गए जीत से हम
हार पहन ली आस्ट्रेलिया ने
समझ विजय का हार
उनका वार गया बेकार
हमारा पलटवार असरदार
अब जल्द ही बनेगा
भारत क्रिकेट का सरदार
क्रिकेट खेलने वालों खबरदार
होशियार होशियार
हम हैं पहरेदार
क्रिकेट की अस्मत के
भारत की किस्मत के
है कोई शक ?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट