शुक्रवार, 28 मार्च 2008

अंधेरा

एक प्रश्‍न है मेरा

क्‍या आपने देखा है कभी अंधेरा
बड़े बड़ों ने हां ही कहा है
लेकिन मैंने नहीं कहा है

अंधेरा कैसा है समझ नहीं आया

प्रयास किया पर देख नहीं पाया
क्‍योंकि ये सत्‍य है
और वैज्ञानिक तथ्‍य है
कोई भी किसी वस्‍तु को
तभी देख पाता है
जब वस्‍तु से प्रकाश परावर्तित हो
उसकी आंख तक आता है
लेकिन प्रकाश के आते ही
अंधेरा तो दुम दबाकर भाग जाता है
और
कोई भी प्रकाश किरण
करती हुई विचरण
कहीं से चकराकर
अंधेरे से टकराकर
नहीं लौट पाती
इसीलिए हमारी आंख
अंधेरे को नहीं देख पाती
या फिर अंधेरा कोई वस्‍तु नहीं है
और भौतिक शास्‍त्र का ये नियम
अंधेरे पर लागू नहीं है
बोलो समझ गये
या उलझ गये
चलो तो
अब बताओ सही सही
आपने अंधेरे को देखा या नहीं
नहीं न ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत गहरी बात कह गये,मित्र.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिसे आप बतला रहे उजाला
    वो भी है अंधेरा ही मित्र
    वैसे खींच लेते हो
    कैमरे बिना, कैमरे से
    अच्‍छा चित्र.
    अंधेरा मन का हटाओगे कैसे
    उसे तो पाओगे हर जगह
    सब सतह, सब फतह.

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट