गुरुवार, 31 जुलाई 2008

हां आ गया मैं भी और मेरा लैपटाप भी हां आ गया मैं और मेरा लैपटाप भी

प्रिय मित्रो
मैं भी वायरल से दो दो हाथ कर रहा था
और मेरा लैपटाप भी
अब आज हम दोनों स्‍वस्‍थ हैं
दोनों एक दूसरे को देखकर मस्‍त हैं
अब फिर होगी मुलाकात
फिर होगी कुछ बात
बना रहे आपका प्‍यार
संपर्क बना रहेगा लगातार
बाकी कल
अब नमस्‍कार

3 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्कार जी नमस्कार
    हमको रहेगा आपका इंतज़ार.
    आप फ़िर लेके आयें बहार
    हम करेंगे टिपण्णी कि भरमार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut badhiya. bhai aap or apka laipatop dono swasthy rahe . shubhakamanao ke sath .

    उत्तर देंहटाएं
  3. आ गए तो
    अब छा भी
    जाओ
    बारिश की तरह
    बारिश सिर्फ
    टिप्‍पणियों की न हो
    व्‍यंग्‍यों की हो
    और कविताओं की भी हो।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट