सोमवार, 21 दिसंबर 2009

एक व्‍यंग्‍य लेख जो आज के हरिभूमि में प्रकाशित है

पीली दाल पीनी है
जब हम पढ़ते थे, विज्ञान के शिक्षक ने बताया था कि पृथ्वी गेंद की तरह गोल है। उसी आकृति की अन्य वस्तुएं जैसे संतरा या खरबूजा भी उस जमाने में थे, तरबूज भी था। लड्डू और रसगुल्ले भी थे। कम से कम स्वाद तो होता। क्यों इस नीरस गेंद का उदाहरण बेहतर समझा गया ? माना कि मीठी चीजों से मधुमेह का खतरा हो सकता था पर तरबूज या खरबूजे से तो खतरा नहीं था। ये फल हैं और मुझे पृथ्वी की तुलना खरबूजे से करना ही अच्छा लगता था। मैंने उस वक्त भी इसका विरोध किया था। पूरी क्लास के ठहाकों ने मेरा पूरा उपहास किया और मैं, न चाहते हुए भी चुप हो गया। ताने सुनने को अलग से मिले, पण्डित है न... खाने की ही बात करेगा। लग रहा था जैसे किसी और को तो खाने से कोई मतलब ही नहीं होता...। मेरा दृष्‍िटकोण कुछ और ही था, जिसे मेरे सहपाठी तो समझ नहीं पाये थे। ठुकराई जाने वाली चीजों से तुलना करना उचित भी नहीं था। हॉकी में.. स्टिक से मार खाती है, क्रिकेट में.. बैट से धुनाई होती है। फुटबाल में, ठोकरों में रहती है और बॉलीबाल में, मुक्के पड़ते हैं। गेंद का भविष्‍य सिर्फ और सिर्फ पिटना है। इस पिटती हुई चीज से महान पृथ्वी की तुलना ? न..न..न.. ।अब आप कहेंगे, पृथ्वी की तुलना खरबूजे से ही क्यों ? बताता हूं...बताता हूं....दोनों एक जैसे होते हैं। खरबूजे में फांक होती हैं। आपने ग्लोब देखा होगा.... ग्लोब पृथ्वी की ही प्रतिकृति होता है। उसमें देशांतर रेखाएं होती है। खरबूजे में ये रेखाएं फांक कहलाती हैं। ये फांक पृथ्वी पर भी हैं और सब देशों की स्थिति प्रदर्शित करती हैं। ग्लोब पर भारत भी तीन फांको में कहीं कम और कहीं ज्यादा विस्तारित है। आप जानते ही हैं खरबूजे की फांक खाने के काम आती हैं। बस यही एक कारण है जो मैं पृथ्वी की तुलना खरबूजे से करना सटीक और सही मानता हूं। अब तो आप संतुष्‍ट हो गये होंगे। अगर आप अभी भी संतुष्‍ट न हुए हों तो कुछ और बताया जाए? लीजिए बताते हैं। खरबूजे में कीड़े भी लगते हैं। पूरी दुनिया की तो मैं कह नहीं सकता पर भारत के हिस्से आई, कुल जमा तीन फांको में तो लग ही रहे हैं। जिसका जहां दाव चल रहा है, वह वहीं से खा रहा है। यकीन नहीं आता? लगता है अखबार तो पढ़ते हो, पर पूरा नहीं। कहीं कीड़ा, कहीं म....कोड़ा, कोई ज्यादा तो कोई थोड़ा। सभी कुतर रहे हैं। कुतर-कुतर कर अपने को और अपने अपनों को तर-बतर कर रहे हैं। हमें और आपको... पीली दाल खाने की विज्ञापनी घुट्टी पिलाई जाती है और उनके अपने लिए... खरबूजा कट रहा है।
चूहों को तो लोग नाहक बदनाम करते हैं। वैसे कुतरना एक कला है, इस पर किसी का बस चला है? इस बात का कोई महत्व नहीं रह गया है कि किस को कितना समय कुतरने को मिला है। इसीलिए तो कुतरने को, कला का रूप दिया गया है। इस कला की यही खासियत है कि जितना कम समय, उतनी ही अधिक कुतरन।ये लेख पढ़ने के बाद... याद है न... पीली दाल पीनी है। ....................................................................

2 टिप्‍पणियां:

  1. और यह है
    वो चम्‍मच
    पीनी है जिससे
    पीली दाल
    http://119.82.71.95/haribhumi/Details.aspx?article=True&boxid=29699496&ID=8207
    कैसे पियेंगे आप
    चम्‍मच से
    या सीधे पतीली से
    निर्णय आपका
    क्‍योंकि मुंह है आपका
    और पेट भी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज बड़े बड़े चूहे देश को कुतर रहे हैं.....कोई कुछ नही कर सकता...वैसे आप सही कहते हैं कि खरबूजे की तरह है पृथ्वी.....बढ़िया पोस्ट लिखी है।

    सही कहा है पीली दाल ही तो रह गई है अब अपने हिस्से मे....

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट