शनिवार, 24 जुलाई 2010

बधाई बधाई बधाई : हिन्‍दी ब्‍लॉगरों का डीएलए में चिंतन


एक बधाई दिविक रमेश जी को
दूसरी बधाई अविनाश वाचस्‍पति जी को
तीसरी बधाई
यह आप बतलायें
इंतजार रहेगा
पहेली ही सहेली है
सहेली ही पहेली है

डीएलए दिनांक 24 जुलाई 2010 में प्रकाशित स्‍तंभ ब्‍लॉग चिंतन से साभार

12 टिप्‍पणियां:

  1. are bhaaiyo Pavan jee ne itana kar diya. ab aap log to apnee jimmedaaree nibhaaiye, yahaan aaiye aur apni upasthiti darj karaiye.
    Divik Ramesh jee ko hardik badhaaiya, Avinaash bhaai ko nirantar age badhate jaane kaa neh-nyot.

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिविक जी और अविनाश जी, आप दोनों को बहुत बहुत बधाई !
    सुभाष नीरव

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो छपे है उन्हें बधाई और जो छपने वाले है उन्हें अग्रिम बधाई :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. dee el e avtaran par sabhi ko badhaai .
    veerubhaai 1947.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिविक जी और वाचस्पति जी में पहला कलम का योद्धा है तो दूसरा की-बोर्ड को कलम की तरह इस्तेमाल करने में माहिर। दोनों को यक़ीनन आगे और भी सम्मान मिलते रहना चाहिए। बहुत-बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिविक जी और अविनाश जी आप को हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट