शुक्रवार, 29 मार्च 2013

फागुन में बारिश

होली पे एक बदरिया मस्‍त हो के छा गयी है
भर-भर के घट लबालब रंग ले के आ गयी है
देवर समझ के सबको छम-छम भिगो रही है
लोग कहते हैं......
बारिश हो रही है।

1 टिप्पणी:

  1. बहुत दिन बाद बारिश हुई, ब्लॉग पर भी

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट