मंगलवार, 31 अगस्त 2010

आने वाला है हिन्‍दी माह पखवाड़ा और सप्‍ताह

हिन्‍दी को मत बांधिए, सप्‍ताह हो या वार
ये हर पल छाई रहे, जाने सब संसार,
भूल जाइये आज से पखवाड़ों का नाम
रोज रोज फैलाइये हिन्‍दी का पैगाम

3 टिप्‍पणियां:

  1. हिंदी को लेकर बढ़िया रचना ... बधाई ...रोज रोज तो प्रचार तो होना ही चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोज प्रचार का विचार बढि़या है। हम शपथ लेते हैं कि आज से रोजाना अपने हिन्‍दी ब्‍लॉग पर पोस्‍टें लगायेंगे ओर टिप्‍पणियां करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ्क्या बात है इतनी देर से खटखटा रहे हैं। आप हैं की सुनते ही नही हिंदी कविता में इतने गुम...आने तो दीजिये हिंदी पखवाड़ा, देखो कितने लोग आते हैं लिखने ब्लॉग के अखाड़े में...बस डटे रहिये।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट