शुक्रवार, 5 नवंबर 2010

मैंने लक्ष्‍मी जी से.....;

मैंने लक्ष्‍मी जी से प्रार्थना की है कि वे मेरे घर के साथ साथ उन घरों में भी जाएं जिन घरों में अभावों की भरमार है। अंत में ये भी कहा है कि वे आपके घर भी आएं.....

9 टिप्‍पणियां:

  1. दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ज्योति पर्व के अवसर पर आप सभी को लोकसंघर्ष परिवार की तरफ हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चंदन जी, वंदन जी, अभावों की चाहे भरमार हो, पर भाव मन के साकार हों, जिनमें बसा प्‍यार का भाव बेशुमार हो। आपको फोन मिला रहा हूं पर आप नहीं उठा रहे हैं, या तो सो गए हैं अथवा सपनों में खो गए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दीपावली का ये पावन त्‍यौहार,
    जीवन में लाए खुशियां अपार।
    लक्ष्‍मी जी विराजें आपके द्वार,
    शुभकामनाएं हमारी करें स्‍वीकार।।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    उत्तर देंहटाएं
  7. साधुवाद इस नेक और अनेक खयाल के लिये.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे घर के बाद आप के घर भी जरुर जाएँ !....यही हमारी दीपोत्सव की शुभकामना है !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस पोस्‍ट का सार है कि लक्ष्‍मी जी हिन्‍दी ब्‍लॉगरों के इर्द-गिर्द ही घूमती रहें। हिन्‍दी ब्‍लॉगर चंदन जी की इस अभिलाषा के लिए उनका वंदन है।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट