शुक्रवार, 12 नवंबर 2010

उड़नतश्‍तरी दिल्‍ली में देखी गई : आपका नाम तो सूची में है न

इस कार्ड के पिछली ओर और भी बहुत सारे हिन्‍दी
ब्‍लॉगरों के नाम प्रकाशित हैं, जानने के लिए कार्ड को पलट कर
देखें।

कल दिल्‍ली के हरियाणा भवन में कनाडा से आई उड़नतश्‍तरी देखी गई है। ऐसी विश्‍वसनीय खबरें निरंतर मिल रही हैं। उड़नतश्‍तरी से भाई समीर लाल जी निरंतर हिन्‍दी ब्‍लॉगरों से फोन पर संपर्क में हैं। जो नंबर जानते हों, कृपया उनका नंबर बतलाने का कष्‍ट करें। वैसे शनिवार 13 नवम्‍बर 2010 को कनाट प्‍लेस के शिवाजी स्‍टेडियम के सामने दीवान चंद्र ट्रस्‍ट, 2, जैन मंदिर रोड में सांय 3 बजे से हिन्‍दी ब्‍लॉग विमर्श कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।
अब तक मिली जानकारी के अनुसार इसमें जर्मनी से राज भाटिया, लंदन से कविता वाचक्‍नवी के अतिरिक्‍त दिल्‍ली और आसपास के काफी महत्‍वपूर्ण हिन्‍दी ब्‍लॉगर शिरकत कर रहे हैं। जिनमें बालेन्‍दु दाधीच, आलोक पुराणिक, रतन सिंह शेखावत, इरफान,काजल कुमार, हर्षवर्द्धन त्रिपाठी, उमेश चतुर्वेदी, अजय कुमार झा, महेन्‍द्र मिश्र, सुधीर रिंटन, आशीष कुमार अंशु, चंडीदत्‍त शुक्‍ल, टी एस दराल, नीरज बधवार, सुभाष नीरव, सुरेश यादव, विनोद कुमार पांडेय, उमाशंकर मिश्र, मयंक सक्‍सेना, सतीश सक्‍सेना, खुशदीप सहगल, प्रतिभा कुशवाहा, रवि धवन, नीरज जाट, अरूण सी राय, राजीव कुमार, जय कुमार झा, संजू तनेजा, तारकेश्‍वर गिरी, सुमित प्रताप सिंह, आशीष मिश्रा, राजीव तनेजा, एम वर्मा, शशि सिंहल, सुलभ सतरंगी, उमेश पंत, पद्म सिंह, भारत भूषण, कनिष्‍क कश्‍यप, प्रवीण शुक्‍ल प्रार्थी,बागी चाचा, यशवंत मेहता फकीरा, विजय प्रकाश सिंह, उपदेश सक्‍सेना, आशीष भटनागर, शाहनवाज सिद्दिकी, सुनील कुमार, लिमटी खरे, पी सी गोदियाल, वंदना गुप्‍ता, वेद व्‍यथित, मोहिन्‍दर कुमार, सीमा गुप्‍ता,सोनल रस्‍तोगी, रिया नागपाल आदि उल्‍लेखनीय है।
आप भी अपने संपर्क के हिन्‍दी ब्‍लॉगरों को इस कार्यक्रम की सूचना दें ताकि कोई यह न कह सके कि मुझे खबर न हुई। सूचना किसी भी माध्‍यम से दी जा सकती है।

22 टिप्‍पणियां:

  1. nice.....................................................................................................

    उत्तर देंहटाएं
  2. Achchha kiya bhai soochit kr diya sabhi aage unki marji. AAP SHIRKAT KR RAHE HAIN YA NAHIN YAH TO BATAAYA HI NAHI. saflta ki subh kaamnaye. post achchhi lagi.

    उत्तर देंहटाएं
  3. दूरभाष पर जय कुमार झा जी से हुए वार्तालाप के अनुसार जय कुमार जी किसी व्यक्तिगत ज़रूरी कार्य से बाहर हैं ... इस लिए उनका आना संभव नहीं होगा... मिलन के लिए झा जी ने अपनी शुभकामनाएँ भेजी हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई मैं भी मिलना चाहता हूँ ... सूची में नाम अंकित कराने के लिए क्या करना पड़ेगा ?.... क्या वगैर सूची के नहीं मिल सकते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरा नाम भी शामिल कर लें....बल्कि बाई डिफॉल्ट होना ही चाहिए था...पता नहीं आप लोग कैसे भूल गए....

    उत्तर देंहटाएं
  6. उड़नतश्तरी वाले समीर जी महाराज की कल मधुर वाणी तो सुन ली, कल साक्षात् दर्शन के लिए भी अवश्य ही पधारेंगे!


    प्रेमरस.कॉम

    उत्तर देंहटाएं
  7. न जाने आप लोगों ने लाल अक्षरों में लिखी महत्‍वपूर्ण सूचना क्‍यों नहीं पढ़ी है जिसमें लिखा है कि कार्ड के पिछली ओर कई महत्‍वपूर्ण नाम प्रकाशित हैं, बस आपको कार्ड पलट कर देखना है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बड्डे मैंने तो अब ही तक उपस्थित होने की स्वीकृति भी नहीं दी है और आपने मेरा नाम (स्वीकृत सूची में) अपने ब्लॉग में छाप दिया .... बड्डे बड़े गुरु निकले.... हा हा ... भैय्या जबलपुर से अभी दिल्ली काफी दूर हैं पहुँच भीं नहीं पाउँगा ... फिर कभी ...

    कृपया कार्ड पलटे और पलटते रहिये ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. सूचना पहले मिली होती तो हम भी आ जाते। अब तो रिज़र्वेशन नही मिलेगी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमें तो पलटने की जरूरत नहीं पडी ..मगर एक बार कोशिश की .....खुदे उलट गए ..पलटते पलटते ..अरे महाराज ..ई कौन कोना से पकड के उलटना है तनिक ई तो बताईये

    उत्तर देंहटाएं
  11. काश हम भी दिल्लीवाले होते...
    आज जलन हो रही है दिल्ली वालों से... खैर अपनी-अपनी किस्मत है भाई... कोई बात नहीं, कभी अपने भी दिन फिरेंगे... वैसे यही सूचना मैंने "अविनाश जी" के ब्लॉग पर भी पढी थी...

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. पूजा जी इसमें कोई नयी बात नहीं है.... दिल्‍ली वालों को भी जलन होती रहती है...पता है क्‍यों.... जो लोग दिल्‍ली से बाहर हैं उन्‍हें देखकर.... दिल्‍ली में पालूशन है न.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. संजय जी आपका स्‍वागत है। आप अपने ब्‍लॉगर/पत्रकार मित्रों को भी साथ ला सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बालेन्‍दु दाधीच,
    आलोक पुराणिक,
    रतन सिंह शेखावत,
    इरफान,
    काजल कुमार,
    हर्षवर्द्धन त्रिपाठी,
    उमेश चतुर्वेदी,
    अजय कुमार झा,
    महेन्‍द्र मिश्र,
    सुधीर रिंटन,
    आशीष कुमार अंशु,
    चंडीदत्‍त शुक्‍ल,
    टी एस दराल,
    नीरज बधवार,
    सुभाष नीरव,
    सुरेश यादव,
    विनोद कुमार पांडेय,
    उमाशंकर मिश्र,
    मयंक सक्‍सेना,
    सतीश सक्‍सेना,
    खुशदीप सहगल,
    प्रतिभा कुशवाहा,
    रवि धवन,
    नीरज जाट,
    अरूण सी राय,
    राजीव कुमार,
    जय कुमार झा,
    संजू तनेजा,
    तारकेश्‍वर गिरी,
    सुमित प्रताप सिंह,
    आशीष मिश्रा,
    राजीव तनेजा,
    एम वर्मा,
    शशि सिंहल,
    सुलभ सतरंगी,
    उमेश पंत,
    पद्म सिंह,
    भारत भूषण,
    कनिष्‍क कश्‍यप,
    प्रवीण शुक्‍ल प्रार्थी,
    बागी चाचा,
    यशवंत मेहता फकीरा,
    विजय प्रकाश सिंह,
    उपदेश सक्‍सेना,
    आशीष भटनागर,
    शाहनवाज सिद्दिकी,
    सुनील कुमार,
    लिमटी खरे,
    पी सी गोदियाल,
    वंदना गुप्‍ता,
    वेद व्‍यथित,
    मोहिन्‍दर कुमार,
    सीमा गुप्‍ता,
    सोनल रस्‍तोगी,
    रिया नागपाल

    दिल्ली में रहने वाली कवित वाचकनवी को लंदन का बता रहे।अभी तो वह वर्धा गई थी,अभी क्या फिर लंदन से आएगी?अगर लंदन से आयेगी तो अपने पैसों से आयेगी फिर तो ऐसे अमीर ब्लागरों की जय हो।अगर अपने पैसों से नहीं आयेगी तो क्या पैसे दे कर बुलवाया जा रहा है ब्लागरों को?क्या जाता है लिख दो कि लंदन से आ रहि
    जय कुमार झा भी नहिं आयेंगे।
    खुशदीप सहगल अपने पिता का दशगात्र करेंगे कि ब्लागर महफ़िल में ठहाके लगायेंगे?
    देखते हैं इस लिस्ट में से कितने आते हैं।कुछ नहीं है ये।बस मदारि समान डुगडुगी बजा कर तमाशबीनों का मजमा लगाने की कोशिश है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. यूँ कि बसंती तुमने अपना नाम नहीं बताया :)

    उत्तर देंहटाएं
  17. ये नाम क्‍या बतलायेगी
    बरसाती बसंती है न
    पद्म भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बसंती सावधान
    ब्‍लॉगर पहुंच रहे हैं
    करने बेनामियों और छद्मनामियों का
    करने खात्‍मा
    इनकी आत्‍मा से मिलेगी परमात्‍मा

    इंटरनेशनल हिन्‍दी ब्‍लॉगर सम्‍मेलन में ब्‍लॉगर अपने हथियारों के साथ पहुंचें

    उत्तर देंहटाएं
  19. @ बसंती ,
    शर्मनाक हरकत ....
    तुम्हारी यह प्रतिक्रिया पढ़ कर लगता है कि तुम किसी परिवार में नहीं रहती ...तुम जो भी हो साथ बैठने योग्य नहीं !
    नकारात्मक विचारधारा के यह लोग किसी के हँसने पर रोते जरूर हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं भी अजय झा के साथ कार्ड पलटने की कोशिश कर रहा हूँ ...फिर कुछ देर में समझ गया अविनाश वाचस्पति का खेल ...:-)) पसीने पसीने हो रहा हूँ ! अजय झा अभी भी लगे हुए हैं ...थोड़ी देर में समझ जायेंगे

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट