शनिवार, 22 जनवरी 2011

आदर्श नगर में आयोजित मीडियाकर्मियों के लिए आयोजित हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग कार्यशाला को संबोधित करते हुये जैसा श्री अविनाश वाचस्‍पति जी ने कहा


साथियों नमस्‍कार।
आप सब क्राइम रिपोर्टर हैं । मेरा कहना है कि हिन्‍दी का प्रयोग न करने को देश में क्राइम घोषित कर दिया जाना चाहिए और आज मैं इस मंच से पूरा एक दशक हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के नाम करने की घोषणा करता हूं। इस एक दशक में आप देखेंगे कि हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग सबसे शक्तिशाली विधा बन गई है। जिस प्रकार मोबाइल फोन सभी तकनीक से युक्‍त हो गया है, उसी प्रकार हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग सभी प्रकार के संचार का वाहक बन जाएगी।
मीडियाकर्मियों और हिन्‍दी ब्‍लागरों का समन्‍वयन अवश्‍य ही इस क्षेत्र में सकारात्‍मक क्रांति का वाहक बनेगा। जिस प्रकार हिन्‍दी ब्‍लॉगर और मीडियाकर्मी एकसाथ मिले हैं, उसी प्रकार यह परचम सभी क्षेत्रों में लहराना चाहिये। प्रत्‍येक क्षेत्र में से हिन्‍दी ब्‍लॉगर बनें और अपने अपने क्षेत्र की उपलब्धियों को सामने लायें। हिंदी मन की भाषा है और इस भाषा की जो शक्ति है वो हिन्‍दी के राष्‍ट्रभाषा न बनने से भी कम होने वाली नहीं है।
तकनीक का ज्ञान बांटने से बढ़ता है। आप जो भी सीखें, उसे सबको सिखलायें। नुक्कड़डॉटकॉम पर हिन्दीटूल किट का लिंक‍‍ स्‍पैनशाट और इंस्‍टालेशन की पूरी प्रक्रिया के साथ उपलब्‍ध है।
ब्‍लाग विधा के संबंध में जिस कक्षा में कंप्‍यूटर शिक्षण आरंभ किया जाता है, उसी कक्षा से सभी विद्यार्थियों के लिए ब्‍लॉग शिक्षण केन्‍द्रीय और राज्‍य सरकारों द्वारा अनिवार्य तौर पर लागू कर दिया जाना चाहिये। हिन्‍दी ब्‍लागिंग को पाठ्यक्रम में शामिल करने की महती आवश्‍यकता है।
प्रिंट मीडिया और चैनलों में हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग को अब जितनी प्रमुखता से लिया जा रहा है, वो इसकी शक्ति का प्रतीक है।
जब भी इंटरनेट खोलें तो अपने आवश्‍यक कार्यों की एक सूची बनाकर साथ रख लें और पहले उन कार्यों को निपटायें, उसके बाद बाकीकार्य करें। जिससे समय की बरबादी न हो और सभी कार्य भी पूरे हों सकें। यह सतर्कता प्रत्‍येक इंटरनेट प्रयोगकर्ता को बरतनी चाहिये।
इस प्रकार आपस में मेल मिलाप और मिलने मिलाने से जिम्‍मेदारी की भावना का विकास होता है और यही भावना हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग को सार्थकता की ओर ले जाने में सक्षम है।
मुझे किसी का सहयोग करने के बाद धन्‍यवाद की अपेक्षा नहीं रहती है परंतु मैं चाहता हूं कि जो मैंने आपको सिखाया है, उसे आप अन्‍यों को अवश्‍य सिखायें। असली धन्‍यवाद और हिन्‍दी प्रेम यही है।
हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग से जुड़ने पर सीधे से सबका पहला सवाल यह होता है कि क्‍या इसमें कमाई है, उन सबसे मेरा यह कहना है कि इसमें खूब कमाई है, अगर आप हरे लाल नीले नोटों में कमाई नहीं ढूंढ रहे हैं तो इसमें प्‍यार रूपी बेशुमार दौलत है। और इस दौलत का कोई सानी नहीं है। मुझे तो यह दौलत खूब मिली है और मैं इसी को सबसे बांट रहा हूं। मुझे जब कोई वस्‍तु बाजार से खरीदनी होती है, उस समय भी मैं एक पोस्‍ट डालकर सबकी राय और बहुमूल्‍य परामर्श ले लेता हूं जिससे समय और पैसे दोनों की बचत होती है। जो उसे पढ़ रहे हैं होते हैं, वे भी उससे लाभान्वित होते हैं। यह भी कमाई
हम घर में भाई को कोई काम कहते हैं तो वो कर देता है और हम उसके काम कर देते हैं। उसी प्रकार हिन्‍दी ब्‍लॉगर आपस में करते हैं, मुझे किसी जगह का कोई काम होता है तो मैं उस जगह के किसी भी ब्‍लॉगर को कह देता हूं और मेरा काम बिना जाये हो जाता है और इसी प्रकार मैं भी सबके काम करने के लिए सदा तत्‍पर रहता हूं। इससे समय और पैसे दोनों की बचत होती है और यह भी कमाई का ही रूप है।
मैं आज पहली बार अनिल अत्री जी से मिला हूं, आप सबसे भी मिल रहा हूं परंतु कहीं से भी यह महसूस नहीं हो रहा है कि हम पहली बार मिल रहे हैं क्‍योंकि हम लोग आपस में नेट के जरिए रोज ही आपस में मिलते रहते हैं। यह हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग की एक विशेषता है।
भाई खुशदीप सहगल इस अवसर पर लखनऊ जाने के कारण नहीं आ पाये परंतु उनका कहना है कि लोकतंत्र के इस पांचवे खंबे को मजबूती प्रदान करने की जिम्‍मेदारी हम सबकी है। हमें सबको लेखक बनने से पहले एक जिम्‍मेदार संपादक बनना होगा।
सबको अपनी रचनाएं अपनी संतान की तरह प्‍यारी होती हैं। उनमें सुधार के लिए आवश्‍यक है कि सिर्फ वाह वाही पर ध्‍यान न देकर, स्‍वस्‍थ आलोचनाओं पर गौर करें और अपने लेखन को विकास की राह पर बढ़ने दें। वाह वाही पर ध्‍यान देने से आत्‍ममुग्‍धता के शिकार होने से विकास बाधित होता है।
सिर्फ टिप्‍पणियों में न उलझें, एक दूसरे की स्‍तुति अथवा टांग खींची में न लगे रहें, वाद विवाद में न पड़ें, ईमानदारी को न छोड़ें, अपने लिखे को सर्वोत्‍तम न मानें, अपनी कमियों को सुनें, जानें, समझें और सुधारने के लिए सदैव रास्‍ते खुले रखें। अपना आधा घंटा नियम पूर्वक इस विधा के विकास के लिए लगायें जिस प्रकार आप भोजन करते हैं, स्‍नान करते हैं और रोजाना के आवश्‍यक कार्यों को करते हैं।
धन्‍यवाद

17 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह पवन जी……………आपने तो अक्षरक्ष: वो सब ही लिख दिया जो अविनाश जी ने कहा था ……………कमाल की स्मरण शक्ति है आपकी………बहुत बढिया तरीके से ब्यौरा दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्‍यवाद वन्‍दना जी, इसमें कमाल की स्‍मरण शक्ति से अधिक उस डायरी का सहयोग है, जो मेरे लैपटाप बैग में घुसकर मेरे साथ चली आई है। उसके प्‍वाइंट्स और स्‍मरण शक्ति का यह कमाल तो आपके भी नाम हो सकता था, गर वो डायरी आपके साथ चली गई होती। याददाश्‍त का तो इसमें रोल खैर ... है ही।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह....वास्तव में शानदार रहा ब्लोगर,पत्रकार तथा साहित्यकारों का ये संगम ......ब्लोगिंग निश्चय की आगे बढ़ रहा है तथा सही मायने में मिडिया का रोल अदा करने की और अग्रसर हो रहा है.....इसके लिए अनिल अतरी जी तथा रजनीकांत तिवारी जी जो असल पत्रकार हैं को हार्दिक धन्यवाद तथा आभार....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहद सार्थक प्रस्तुति ... आपका आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉगर मिलन के लिए शुभकामनाएं।
    ब्लॉग की शक्ति अपार है,अगर उसे समझा जाए तो।

    सभी को शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपके हौसले को सलाम ....शक्रिया आपका
    एकदम सम्पुर्ण रिपोर्ट धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. AESEE SAARTHAK KARYON SE HINDI BLOG KAA BHAVISHYA ATYANT UJJWAL HAI . SABKO MEREE
    BADHAAEE AUR SHUBH KAMNA.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अविनाश वाचस्पति जी इस ब्लॉगिंग युग के द्रोणाचार्य जी है, भले और भी लोग हो पर जाना तक मुझे पता है ब्लॉग के उपयोग और उसके विकास पर इन्होने बहुत लोगों को बहुत कुछ सिखाया...आज की कार्यशाला भी बेहतरीन रही..हर जन जन को ब्लॉग के बारे मे पता चले और ब्लॉगिंग का विकास हो...अविनाश जी का बहुत बहुत आभार.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही त्वरित और प्रेरणा देने वाली रपट लगाई है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सम्यक् चिन्तन। ब्लॉग जगत में कई लोग काफी अच्छा काम कर रहे हैं और जो तिकड़मों में लगे हैं,वे होंगे तो हर समय मगर धीरे-धीरे स्वयं समाप्त होते जाएंगे।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट