बुधवार, 11 मार्च 2009

बुरा न मानो होली है

फागुन


न जाने क्‍या कब हुआ, बचपन हो गया लुप्‍त

यौवन छलके देह से, फागुन रखियो गुप्‍त

कुछ छींटे महसूस कर भीगा सारी रात

मौसम हुआ शरारती ख़बर बांट दी मुफ्त


भंग का रंग


लगती पीकर भांग को, होली बड़ी विचित्र

फिर तो भाभी सा लगै, हमको अपना मित्र

अगर नहीं हो पास कभी वो होली में

रंग डालो जी प्‍यार से उठा उसी का चित्र


होली में भी दर्द है

शादी अपनी हो गयी, ससुर मिले कंजूस

किसको हम साली कहें, होता है महसूस

नहीं दीखती बाला कोई होली में-

दुनिया खुश है आज हमीं बस लगते हैं मनहूस





8 टिप्‍पणियां:

  1. are bhai bahar niklo holi ka rang sacha hoga to bala bhi mil jayegi mayoos kyon ho holi mubarak

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब लिखा है आपने ..
    होली मुबारक . हो..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब लिखा है आपने ..
    होली मुबारक . हो..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया!!

    आपको होली की मुबारकबाद एवं बहुत शुभकामनाऐं.
    सादर
    समीर लाल

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्‍या बात करते हैं चंदन जी
    हमने देखा है कि आप
    प्राण शर्मा को रंगे डाल
    रहे हैं, आप 100 किलो के हैं
    100 ग्राम के प्राण रहे हैं निकाल।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट