गुरुवार, 17 सितंबर 2009

एक पहेली बता सकोगे........

चलो बताओ पाठको, एक अनोखी बात
अंतिम के आरंभ से होती है शुरूआत
स्‍वर व्‍यंजन के हार की महिमा हुई अनंत
हंसने की शुरूआत से हो गया इसका अंत

5 टिप्‍पणियां:

  1. हम तो यही बतायेंगे
    कि पता नहीं
    या पता होगा
    जब आप बतलाओगे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अंतिम का आरंभ हुआ अं ,
    हंसने की शुरूआत हुई हं ,
    शब्‍द बना अंहं ,
    पाठकों से माथापच्‍ची क्‍या करवानी .. जल्‍दी से आप ही बता दें !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. संगीता जी ने सही उत्तर दे तो दिया जी ।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट