सोमवार, 28 सितंबर 2009

ब्‍लॉगवाणी की जोत फिर से प्रज्वलित कीजिए

टीम ब्‍लॉगवाणी को निवेदन

देश में नई नई उम्‍मीदों की किरण

चारों तरफ कर रहीं हैं विचरण

चांद कितना दयावान है

कर रहा है हमारे लिए जल संरक्षण

फिर आप ने ये क्‍या कर डाला

निकाल दिया लेखकों का दिवाला

हे ब्‍लॉगों के माई बाप

चंद सिरफिरों के विचारों को नजरअंदाज

क्‍यों नहीं कर पाये आप
जागिये जागिये और जागिये

हिन्‍दी की सेवा से दूर मत भागिये

ये हमारी भाषा है

वाणी बंद होने से हमें निराशा है

तो कृपया अपनी महान ब्‍लॉगवाणी को

फिर से जगाइये और ये सेवा का दीप फिर से जलाइये

आपकी महानता को हम प्रणाम करेंगे

10 टिप्‍पणियां:

  1. सच कह रहे हैं पवन जी आप
    ब्‍लॉगिंग की जोत ही है वाणी
    सही उपमा दी है आपने मन
    को भाई है, हिन्‍दी सेवा हित
    ही तो आपने जोत जलाई है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिल्कुल
    ब्लागों के माईबाप
    अब ज्यादा नखरे मत खाईये
    जल्दी वापिस आ जाईये

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम भी यही दुया करते हैं कि बलागवाणी जलदी से शुरू हो जाये आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  4. akshma kijiye sab dushto ko, blogvaani ko fir se le aayiye...dekhiye kitne bade bade log khoon ke aansoo ro rahe hain

    उत्तर देंहटाएं


  5. मैथिली जी, यह पुकार सुनी जाये
    हमारी आशाओं पर तुषारापात न होने पाये ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लो अब हमारे रुठे रुठे ब्लोगवाणी टीम भैया वापस आ गये। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बापस आ जाओ...ये दूरी सही नहीं जा रही है। ये सामूहिक पुकार है। चंद लोगो के आरोप से इतना आहत हो सकते हैं तो बहुमत की पुकार आपको वापस क्यों नहीं ला सकती। ब्लाग की दुनिया में इतना सूनापन कभी ना था..सुन रहे हैं ना..
    गीताश्री

    उत्तर देंहटाएं
  8. pawan ji hum pehli bar hi ish blog me aaye hai,lekin yaha aakar sabhi bloger ki tipaniya padhi usko dekh kar pata chla aap blogs suru kar ke bhag gaye the. kiya baat hai? blog bana kar accha nhi laga tha ya blog padhne wale?



    ha ha ha



    maf kijiyega thoda hansi thitoli kar raha tha.



    ab aap aa jaiye to baat bane

    उत्तर देंहटाएं

टिप्‍पणी की खट खट
सच्‍चाई की है आहट
डर कर मत दूर हट